महागठबंधन से अलग हुए बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी; अकेले लड़ सकते है आने वाले चुनाव

पटना | हिन्दुस्तान आवाम मोर्चा ने महागठबंधन से अलग होने का फेसला किया है ! अब आगे आने वाले बिहार तथा झारखण्ड के चुनाव में अब हिंदुस्तान आवाम मोर्चा ने स्वाम पार्टी के दम पर लड़ने का फेसला किया है ! इस महागठबंधन से अलग होने का फेसला हम यानि हिंदुस्तान अवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी के नेतृत्व में लिया गया ! उन्होंने कहा की पार्टी से अलग होने का फेसला हमारा नही है ! उन्होंने कहा की पार्टी के आस्तित्व को बचाने के लिए बिहार विधानसभा चुनाव में अकेले लड़ना आवश्यक है ! इसके साथ ही उन्होंने कहा की झारखण्ड विधानसभा चुनाव भी अकेले ही लड़ेंगे |

jitan ram majhi left from mahagathbandhan

महागठबंधन से अलग होने के फेसले के बाद जीतन राम मांझी से कई बीजेपी नेताओ के भेट करने का सिलसिला जरी है अनुमान लगाया जा रहा है की जीतन राम मांझी के पार्टी आने वाले चुनाव में एक साथ चुनाव लड़ सकती है | इसी बिच जीतन राम मांझी ने प्रितिक्रिया देते हुए कहा की बीजेपी नेताओ से मिलना का कारण व्यक्तिगत बताया साथ ही उन्होंने कहा की हम बीजेपी में शामिल नही हो रहे है |

अकेले लड़ सकते है चुनाव

चुनाव के बीच में नेताओ के बिच खींचतान चल रही है ! कोई किसी पार्टी में शामिल हो रहा है ! एक दूसरे से गठबंधन तोड़ रहा है ! कोई गठबंधन कर रहा है ! अभी हल ही में जीतन राम माझी  गठबंधन तोड़कर अकेले चुनाव लड़ सकते है |

झारखण्ड में विधानसभा चुनाव सामने है ! जिसके तेयारी में पार्टी जल्द ही 10 नवम्बर को अपने उम्मीदवारों की घोषणा करने वाली है ! जीतन राम मांझी के पार्टी बैठेक में बूथ स्तर पर कमिटी बनाने के साथ ही एनआरसी के मुद्दे पर भी बात हुई बैठेक में दलित- मुस्लिम एकता मजबूत करने को लेकर कार्यवाही तय करने के लिए जीतन राम मांझी को अधिकृत किया गया |

लेखक

Archana Kumari

नमस्ते! मैं Archana Kumari हूं। मैं 2016 से नौकरी और शिक्षा पर रिपोर्ट कर रही हूं। यदि आप रेलवे, बैंक, एसएससी, व्यापम, आईबीपीएस या किसी नौकरी से संबंधित कोई खबर देना चाहते हैं, तो कृपया [email protected] पर लिखें। कृपया अपने ईमेल में अपने पूर्ण नाम, शैक्षणिक योग्यता का उल्लेख करें।